5 दिग्गज क्रिकेटर, जिनके बेटे अपने पिता की तरह क्रिकेट में कमा रहे हैं नाम.

विश्व क्रिकेट जगत में ऐसे बहुत सारे खिलाड़ी हुए हैं, जिन्होंने इस खेल के तीनों ही प्रारूपों में कई बड़े रिकॉर्ड्स बनाए. कई कीर्तिमान तो ऐसे हैं, जो दशकों से नहीं टूट पाए हैं. ऐसे में हमारी क्रिकेट स्मृतियों में कुछ प्लेयर्स की यादें बेहद ख़ास हैं. उन्हें खेलते देखते थे तो बस देखते रह जाते थे. उन्होंने डेब्यू करने से लेकर संन्यास लेने तक क्रिकेट को बहुत कुछ दिया, लेकिन अब कुछ सालों बाद उनके बच्चों को भी खेलते देखना अच्छा लगता है.

आज हम ऐसे 5 खिलाड़ियों की बातें करेंगे, जिनके बच्चे भी अपने पिता की तरह क्रिकेट में नाम कमा रहे हैं. कौन से हैं वे. आइये नज़र डालते हैं:

सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन हैं ज़बरदस्त ऑलराउंडर

सचिन अपने बेटे अर्जुन के साथ.

भारतीय क्रिकेट टीम के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर का कोई सानी नहीं है. उन्हें हाल ही में 21वीं सदी का सबसे महान खिलाड़ी घोषित किया गया है. उनके बेटे अर्जुन तेंदुलकर पर पिता के नाम का सबसे ज्यादा दबाव है. साल 2018 में अर्जुन ने अपने प्रदर्शन से सभी को चौंका दिया था. उन्होंने क्रिकेट क्लब ऑफ इंडिया के लिए पारी की शुरुआत करते हुए टी20 मैच में 27 गेंदों में 48 रन ठोंके थे और 4 विकेट हासिल किए थे. इतना ही नहीं, आईपीएल 2021 की नीलामी में मुंबई इंडियंस ने अर्जुन को अपनी टीम में शामिल किया. स्टार हरफनमौला खिलाड़ी अर्जुन अपने पिता के नक्शेकदम पर चल रहे हैं. उन्हें कई बार सीनियर टीम के नेट्स में बॉलिंग प्रैक्टिस करते हुए भी देखा गया है.

राहुल द्रविड़ के बेटे समित हैं कलात्मक बल्लेबाज

द्रविड़ अपने बेटे समित संग.

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ के बेटे समित भी अपने पिता की तरह बल्लेबाज बन रहे हैं. समित ने कर्नाटक स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन के बीटीआर कप के अंडर-14 इंटर स्कूल टूर्नामेंट में अपने साथी खिलाड़ी आर्यन के साथ मिलकर बेहद लंबी साझेदारी निभाई थी, जिसके बूते उनकी टीम ने 50 ओवर में 500 रन का स्कोर खड़ा किया था. इस दौरान समित ने 150 रन की पारी खेली थी. वहीं, आर्यन ने 154 रन बनाए थे. इसके बाद विपक्षी टीम 88 रनों के स्कोर पर ही ढेर हो गई थी. बता दें कि समित ने साल 2015 में अंडर-12 में गोपाल क्रिकेट चैलेंज टूर्नामेंट में खेलते हुए 3 अर्धशतक जड़े थे. समित पिता राहुल द्रविड़ से क्रिकेट के गुण सीख रहे हैं.

मखाया एंटिनी के बेटे पिता के नक्शेकदम पर

एंटिनी अपने बेटे थांडो के साथ.

दक्षिण अफ्रीकी टीम के पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज मखाया एंटिनी को दुनिया के सबसे घातक पेसर्स में गिना जाता है. उनके बेटे थांडो भी अपने पिता के नक्शेकदम पर चल रहे हैं. थांडो एंटिनी दक्षिण अफ्रीका की अंडर-19 टीम का हिस्सा रह चुके हैं. जूनियर एंटिनी तेज गेंदबाजी के लिए जाने जाते हैं. उनका गेंदबाजी स्टाइल बिलकुल अपने पिता की तरह नज़र आता है. 20 साल के इस पेसर ने 11 प्रथम श्रेणी मुकाबलों में 30 विकेट चटकाए हैं. इसके अलावा उन्होंने 13 लिस्ट ए मैचों में 20 विकेट लिए हैं. थांडो अपने पिता से क्रिकेट के गुण सीख रहे हैं.

मिलिए जूनियर चंद्रपॉल से

चंद्रपॉल अपने बेटे तेगनरेन संग.

वेस्टइंडीज क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज शिवनरेन चंद्रपॉल के बेटे तेगनरेन अपने पिता की तरह बल्लेबाजी करने के लिए जाने जाते हैं. साल 2017 में इन दोनों ने एक मैच में एक साथ बल्लेबाजी करते हुए अर्धशतक लगाए थे. गुयाना टीम के लिए खेलते हुए तेगनरेन ने ओपनिंग की थी और खुद शिवनरेन तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे थे. 25 साल के बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने 43 प्रथम श्रेणी मुकाबलों में 2 शतक और 10 अर्धशतक की मदद से 2072 रन बनाए हैं.

स्टीव वॉ के बेटे ऑस्टिन भी नहीं हैं किसी से कम

स्टीव वॉ अपने बेटे ऑस्टिन के साथ.

ऑस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ ने अपनी टीम को साल 1999 में विश्व कप का खिताब दिलाया था. अब उनके बेटे ऑस्टिन वॉ भी अपने पिता के नक्शेकदम पर चल रहे हैं. ऑस्टिन आईसीसी अंडर-19 विश्व कप 2018 में ऑस्ट्रेलिया के लिए खेले थे. ऑस्टिन एक ऑलराउंडर की भूमिका निभाते है. उन्होंने अंडर-17 नेशनल चैंपियनशिप के फाइनल में नाबाद शतक जड़कर सभी को चौंका दिया था. वे भी आने वाले समय में अपने पिता की तरह कंगारू टीम का प्रतिनिधित्व कर सकते हैं.

Leave a comment