महेंद्र सिंह धोनी अब क्रिकेट से अलविदा कह चुके हैं, लेकिन उन्होंने भारत के लिए सफल रन चेंज के दौरान कई बहरीन पारियां खेल कर भी फिनिशर की भूमिका निभाई।

पिछले काफी समय से एकदिवसीय क्रिकेट में एक नया चलन देखने को मिला है, जहां टीम्स निर्धारित स्कोर बनाने की बजाए बड़े लक्ष्य का पीछा करना पसंद करती हैं। अब 50 ओवर के प्रारूप में रन चेज़ करना सामान्य हो गया है, जिसमें ऐसे खिलाड़ी हैं, जो खेल के अंतिम 10 ओवर्स में छक्के लगाने का दम रखते हैं। आंद्रे रसेल, कीरोन पोलार्ड, एमएस धोनी, हार्दिक पांड्या, बेन स्टोक्स, जॉस बटलर जैसे दिग्गज खिलाड़ी हैं। हालांकि, महेंद्र सिंह धोनी अब क्रिकेट से अलविदा कह चुके हैं, लेकिन उन्होंने भारत के लिए सफल रन चेंज के दौरान कई बहरीन पारियां खेल कर भी फिनिशर की भूमिका निभाई। इसी वजह से उन्हें बेस्ट फिनिशर में गिना जाता है।

टी20 क्रिकेट के आने के बाद से टीम्स को लक्ष्य का पीछा करने में अपनी क्षमता पर विश्वास हो गया है। विराट कोहली इसके लिए सबसे उपयुक्त उदाहरण है, जो गणनात्मक स्ट्रोकप्ले के साथ आसानी से लक्ष्य का पीछा करते हुए दिखाई दिए हैं। आज हम, सफल रन-चेज़ में ऐसे ही 5 सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर के बारे में बताने जा रहे हैं:

  1. हर्शल गिब्स- 175 बनाम ऑस्ट्रेलिया

दक्षिण अफ्रीका के दिग्गज बल्लेबाज हर्शल गिब्स ने साल 2006 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे मैच में 175 रनों की शानदार पारी खेली थी और टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई थी। इस मुकाबले में कंगारू टीम ने 435 रनों का लक्ष्य दक्षिण अफ्रीका टीम को दिया था, जिसका पीछा करते हुए गिब्स के अलावा ग्रीम स्मिथ और मार्क बाउचर सहित अन्य बल्लेबाजों ने टीम की जीत में योगदान दिया था।

दाएं हाथ के पूर्व बल्लेबाज ने 111 गेंदों में 21 चौके और 7 छक्कों की मदद से 175 रनों की तूफानी पारी खेली थी। दक्षिण अफ्रीका ने इस मुकाबले में ऑस्ट्रेलियाई टीम को 1 विकेट से मात दी थी। इस वनडे मैच को एकदिवसीय क्रिकेट इतिहास के सबसे बड़े मुकाबलों में गिना जाता है।

  1. रॉस टेलर- 181* बनाम इंग्लैंड

सफल रन चेज की सूची में चौथे स्थान पर कीवी बल्लेबाज रॉस टेलर का नाम भी शामिल है। साल 2018 में डुनेडिन ओवल में न्यूजीलैंड और इंग्लैंड के बीच खेले ऐतिहासिक एकदिवसीय मुकाबले में जमकर रनों की बरसात हुई थी। कंगारू टीम के दिए गए 336 रनों के टारगेट का पीछा करने उतरी कीवी टीम की तरफ से महान बल्लेबाज रॉस टेलर ने नाबाद 181* रनों की जबरदस्त पारी खेली थी।

37 साल के दाएं के बल्लेबाज ने इस मुकाबले में 147 गेंदों का सामना करते हुए नाबाद 181* रन बनाए थे। टेलर ने 17 चौके और 6 छक्के जड़े थे। कीवी टीम ने कंगारुओं को इस मैच में 3 गेंदे शेष रहते हुए 5 विकेट से हराया था।

  1. विराट कोहली- 183 बनाम पाकिस्तान

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली भी इस लिस्ट में शामिल हैं। रन मशीन के नाम से मशहूर कोहली ने एशिया कप 2012 में पाकिस्तान के खिलाफ अपना सर्वोच्च एकदिवसीय स्कोर बनाया था। विराट की इस शानदार पारी की बदौलत पाकिस्तान के दिए गए 330 लक्ष्य को भारत ने 13 गेंदे शेष रहते हुए हासिल कर लिया था। सचिन तेंदुलकर (52) और रोहित शर्मा (68) ने कोहली के साथ महत्वपूर्ण साझेदारी निभाई थी।

32 साल के दाएं हाथ के बल्लेबाज ने इस मैच में 148 गेंदों में 22 चौके और 1 छक्के की मदद से 183 रन बनाए थे। भारत ने पाकिस्तान को 6 विकेट से शिकस्त दी थी।

यह भी पढ़ें | 5 भारतीय खिलाड़ी, जो हुए हैं वनडे क्रिकेट में सर्वाधिक बार ‘नर्वस 90’ का शिकार
  1. एमएस धोनी- 183* बनाम श्रीलंका

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान एमएस धोनी का नाम भी इस सूची में शुमार है। उन्होंने साल 2005 में श्रीलंका के विरुद्ध जयपुर में नाबाद 183* रनों की पारी खेली थी। धोनी का यह सर्वोच्च एकदिवसीय स्कोर है, जो एक सफल रन चेज में बनाया गया था। भारत को जीत के लिए 299 रनों की दरकार थी और धोनी ने इस मुकाबले में फिनिशर की भूमिका निभाई थी। पूर्व भारतीय कप्तान ने इस मैच में तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी की थी। यह पारी उनके करियर के शुरुआती दिनों की थी।

39 साल के पूर्व दाएं हाथ के विकेटकीपर बल्लेबाज ने 145 गेंदों का सामना करते हुए नाबाद 183* रनों की शानदार पारी खेली थी। इस दौरान उनके बल्ले से 15 चौके और 10 छक्के निकले थे। भारतीय टीम ने इस मैच में श्रीलंका को 23 गेंदे शेष रहते हुए 6 विकेट से हराया था।

  1. शेन वॉटसन- 185* बनाम बांग्लादेश

सफल रन चेज में सर्वोच्च व्यक्तिगत स्कोर की सूची में ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज शेन वॉटसन पहले स्थान पर हैं। वॉटसन ने यह तूफानी पारी ऑस्ट्रेलिया के बांग्लादेश के दौरे के दौरान ढाका में खेले गए वनडे सीरीज के दूसरे मुकाबले में खेली थी।

टाइगर्स ने इस मुकाबले में कंगारुओं को 230 रनों का टारगेट दिया था। 39 साल के दाएं हाथ के बल्लेबाज ने मात्र 96 गेंदों में नाबाद 185* रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली थी। इस दौरान उन्होंने 15 चौके और 15 ही छक्के जड़े थे। कंगारू टीम ने बांग्लादेश को 144 गेंदे शेष रहते हुए 9 विकेट से मात दी थी।